वाराणसी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली को देख के सभी विपच्छी पार्टियों की पैंट हुयी गीली!

BREAKING NEWS: आखिर क्यों? वाराणसी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली में लोगों को देख के सभी विपच्छी पार्टियों की साँसे फूलने लगी!

Video Source: Zee News

मीडिया के अनुसार, 25 अप्रैल को वाराणसी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली में लोगों के जनसैलाब को देख के कांग्रेस पार्टी समेत बाकी सभी विपच्छी पार्टियों की साँसे फूलने लगी। ऐसा भी कहा जा रहा है की 2014 के लोकसभा चुनाव के समय जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाराणसी में रैली की थी तब करीब 5 लाख लोग आये थे और इस बार करीब ६.५ लाख लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली में मौजूद थे। अब तो ऐसा भी कहा जा रहा है की कांग्रेस पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली को देख के प्रियंका वाड्रा को वाराणसी से चुनाव लड़ने से मन कर दिया है।

और जानने के लिए : BREAKING NEWS

आप को बता दे की वाराणसी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रात में एक चुनावी रैली को भी संबोधित कि‍या और चुनावी रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सीधे आतंकवाद पर निशाना साधा और वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने काम का भी हिसाब वाराणसी की जनता को दिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण के अंत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रैली में मौजूद अपने अभी समर्थकों से कहा अगर आप सब लोग कहेंगे तो मैं कल अपना नामांकन भरूंगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जैसे ही वह मौजूद वाराणसी की जनता से कहा क्‍या मैं कल नामांकन भरने जाऊं तभी उस रैली में मौजूद सभी लोगों ने पूरे जोर से उनका समर्थन कि‍या। उसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाराणसी की रैली में कहा तो मैं ये समझूं कि इस चुनाव की जिम्‍मेदारी आप लोगों ने ले ली है और अब मैं आपसे जीत के बाद ही‍ मिलने आउंगा।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अंत में वाराणसी की रैली में कहा की मेरा कर्तव्य बनता है कि आपसे दूसरे पांच साल मांगने से पहले आप सब को मेरे पहले पांच साल का हिसाब दे दूं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा की मेरा जीवन ऐसा है कि शरीर का कण-कण और समय का पल-पल, उसके पाई-पाई का हिसाब आप सब के चरणों में रखता रहू और आप सब को अपने पहले पांच साल का हिसाब दे दूं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा की मैं अपने पहले पांच साल का कार्यकाल के दौरान मैंने काशी के सभी किसानों, बुनकरों और युवाओं के लिए एक ऐसे मॉडल को स्थापित करने की कोशिश की है जो सर्वसमावेशी, सर्वस्पर्शी, सर्वहितैषी, सर्वसंतोषी और सर्वांगीण हो। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा की मैंने पहले भी कहा है कि बाबा की इच्छा के बगैर यहां एक पत्ता भी नहीं हिलता और मैं तो निमित्त मात्र हूं। जय हिन्द! जय भारत!


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *