बीएसपी प्रमुख मायावती ने महागठबंधन से किया किनारा!!!!

Breaking News : बीएसपी प्रमुख मायावती ने कांग्रेस पार्टी को दिखाया उसकी असली औक़ात!!!!

Video Source: ABP Hindi News

आज आप सब लोगो को भारत की सबसे बड़ी राजनीतिक घटना को याद रखना जरुरी है क्योंकि आज की हुयी इस घटना का असर 2019 मे होने वाले लोकसभा के चुनावों में ज़रूर पड़ेगा।  मीडिया के अनुसार, मध्य प्रदेश और राजस्थान मे होने वाले विधानसभा चुनाव में BSP ने कांग्रेस के साथ गठबंधन करने से इनकार कर दिया है और BSP की अध्यक्ष मायावती ने कहा है कि उनकी पार्टी इन दोनों राज्यों में या तो अकेले चुनाव लड़ेगी या वह के छोटे क्षेत्रीय दलों के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगी। BSP अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस पार्टी पे ये भी आरोप लगाया है कि कांग्रेस पार्टी उनकी पार्टी को खत्म करने की साज़िश रच रही है और कांग्रेस पार्टी के अन्दर बहुत ही घमंड भरा हुआ है। मायावती ने कहा की कांग्रेस पार्टी बीजेपी को लोकसभा चुनाव मे अकेले कभी भी नहीं हरा सकती।

और जानने के लिए : BREAKING NEWS

मीडिया से बात करते हुए बीएसपी प्रमुख मायावती ने कहा की राहुल गाँधी को गुजरात मे मिले आंशिक बढ़त से भ्रम हो गया है की वो बीजेपी को हरा सकते है, उन्होंने कहा की राहुल गाँधी और कांग्रेस पार्टी को जमीनी हकीकत के बारे मे नहीं पता। बीएसपी प्रमुख मायावती ने कहा की कांग्रेस पार्टी ने जो जो पाप किये है जनता उसे भूली नहीं है और न ही कभी माफ़ करेगी और कांग्रेस पार्टी को दिल से ये बात निकल देनी चाहिए की वो कभी बीजेपी को अकेले हरा सकते है। बीएसपी प्रमुख मायावती ने मीडिया से कहा की कांग्रेस पार्टी बाकी सभी विपच्छी पार्टीयो को ख़तम करना चाहती है और कांग्रेस पार्टी का इतिहास रहा है की वो किसी भी पार्टी का सामान नहीं करना जानती है।

आप को बता दे की उत्तर प्रदेश राज्य में लोकसभा की पूरी 80 सीटें हैं और अभी तक कांग्रेस पार्टी द्वारा ये प्रचार किया जा रहा था कि उत्तर प्रदेश में बीएसपी, कांग्रेस और समाजवादी पार्टी महागठबंधन करेंगे। ऐसा कहा जा रहा था की महागठबंधन होने के बाद बीजेपी उत्तर प्रदेश मे अकेली रह जाएगी और अगर बीजेपी को उत्तर प्रदेश में काम सीटों पे रोक लिया गया तो फिर केन्द्र में महागठबंधन की सरकार बन जाएगी। लेकिन राहुल गाँधी और कांग्रेस पार्टी के इन सभी अरमानों पर आज मायावती ने पूरी तरह से पानी फेर दिया है और अगर लोकसभा चुनावों में मायावती अकेले चुनाव लड़ती हैं तो फिर वो कांग्रेस पार्टी और समाजवादी पार्टी के वोट पूरी तरह से काटेंगी और इसका पूरा फायदा बीजेपी को मिलेगा।

क्या कांग्रेस पार्टी का हाथ माओवादी के साथ!!!!

Breaking News : माओवादी के साथ कांग्रेस पार्टी का हाथ!!!!

Video Source: Zee News

सूत्रों के अनुसार, भीमा कोरेगांव हिंसा की जांच कर रही पुणे पुलिस ने कुछ दिन पहले देश के कई राज्यों मे छापेमारी कर के मुंबई, दिल्ली, हैदराबाद औऱ रांची में घंटों तलाशी ली थी औऱ वह से 5 लोगों को गिरफ्तार किया था। पुणे पुलिस के अनुसार, सभी गिरफ्तार 5 लोगों पर प्रतिबंधित माओवादी संगठन से लिंक होने का आरोप है और उनकी लिखी हुई एक चिठ्ठी मे ये बात सामने आयी है की कांग्रेस पार्टी के नेता इन लोगो के संपर्क मे थे। आप को बता दे की ये सभी लोग को रांची से फादर स्टेन स्वामी, हैदराबाद से वामपंथी विचारक और कवि वरवरा राव, फरीदाबाद से सुधा भारद्धाज और दिल्ली से सामाजिक कार्यकर्ता गौतम नवलखा की गिरफ्तारी हुई है।

और जानने के लिए : BREAKING NEWS

एक रिपोर्ट के अनुसार, महाराष्ट्र सरकार ने भीमा कोरेगांव केस में सुप्रीम कोर्ट को एक हलफनामा दाखिल कर बताया कि गिरफ्तार किए गए सभी 5 एक्टिविस्ट समाज में बहुत बड़े पैमाने पे अराजकता फैलाने की योजना बना रहे थे। सूत्रों के अनुसार, पुणे पुलिस के पास इसके सारे पुख्ता सबूत हैं और महाराष्ट्र सरकार ने कहा है कि ये सभी एक्टिविस्ट को उनके सरकार के प्रति अलग सोच या अलग विचारों की वजह से गिरफ्तार नहीं किया गया है ये सभी लोगो को उनके खिलाफ माओवादी के साथ सम्बन्ध के पक्के सबूत पुणे पुलिस के पास हैं। महाराष्ट्र सरकार ने कहा कि उन्हें पुलिस हिरासत में दिया जाना चाहिए और इस बात के सबूत पुलिस को मिले हैं कि सभी 5 एक्टिविस्ट प्रतिबंधित आतंकी (माओवादी) संगठन के सदस्य हैं। सूत्रों के अनुसार, इन सभी लोगो के खिलाफ गंभीर अपराध का केस बनाया गया है और इनके पास से काफी आपत्तिजनक सामग्री भी बरामद की गई है। पुणे पुलिस के पास पुख्ता सबूत मिले हैं कि ये सभी प्रतिबंधित माओवादी संगठन CPI (माओवादी) के एक्टिव मेंबर हैं और ये सभी कांग्रेस पार्टी के नेताओ से मिले हुए थे।

Loading…

आप को बता दे की वही दूसरी ये सभी 5 लोगो के याचिकाकर्ता के वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कोर्ट से कहा था कि एफआईआर में गिरफ्तार किए लोगों का नाम तक नहीं है। वही पुणे पुलिस की ओर से पेश ASG तुषार मेहता ने कोर्ट से कहा था कि याचिका दायर करने वालों का इस केस से कोई भी ताल्‍लुक नहीं है और वो लोग किस हैसियत से याचिका दायर कर रहे है। आप को बता दे की याचिकाकर्ता रोमिला थापर, देवकी जैन, प्रभात पटनायक, सतीश देशपांडे और माया दारूवाला ने सुप्रीम कोर्ट मे याचिका दायर कर पुणे पुलिस की कार्रवाई को चुनौती दी है और कांग्रेस पार्टी के साथ कई और राजनैतिक पार्टिया उन सभी 5 का सपोर्ट कर रही है।

भारतीय सेना ने जम्‍मू और कश्‍मीर के शोपियां मे पांच पाकिस्तानी आतंकियों को भेजा जहनुम!!!!

Breaking News: भारतीय सेना ने दिखाया रौद्र रूप!!!!

Video Source: India TV

सूत्रों के अनुसार, कुछ दिन से जम्‍मू और कश्‍मीर के शोपियां में भारतीय सुरक्षाबलों और पाकिस्तानी आतंकियों के बीच चल रही मुठभेड़ कल खत्‍म हो गई हैै। सेना के अधिकारियो ने बताया की उनको इलाके से सबसे पहले एक पाकिस्तानी आतंकी का शव हथियार समेत मिला और सेना ने बताया की मारा गया यह आतंकी लश्‍कर-ए-तैयबा का उमर मलिक है। सेना ने उसके शव के पास से एक एके-47 बरामद की और वहीं अब तक भारतीय सेना से मुठभेड़ में पांच पाकिस्तानी आतंकियों को ढेर किया गया है और उस सब के शव भी बरामद कर लिए गए हैं।

और जानने के लिए : BREAKING NEWS

आप को बता दे की 3 अगस्त, शुक्रवार की शाम को थमी फायरिंग 4 अगस्त, शनिवार सुबह फिर से शुरू हो गई थी और भारतीय सुरक्षाबलों ने पूरे शोपियां इलाके को घेर लिया था और वहां भारतीय सेना द्वारा तलाशी अभियान चलाया जा रहा है। भारतीय सुरक्षाबलों और पाकिस्तानी आतंकियों के बीच यह मुठभेड़ शोपियां के किलोरा गांव में हो रही थी।

Loading…

सेना के अनुसार, शुक्रवार को सुबह ही भारतीय सुरक्षाबलों ने जम्‍मू और कश्‍मीर के सोपोर में मुठभेड़ में तीन पाकिस्तानी आतंकियों को जहनुम भेज दिया था। आप को बता दे की यह मुठभेड़ जम्मू कश्मीर के सोपोर के ड्रूसू गांव में चल रही थी और दो पाकिस्तानी आतंकियों को ढेर करने के लिए भारतीय सुरक्षाबलों ने अपना सर्च ऑपरेशन शुरू ही किया था। तभी पाकिस्तानी आतंकियों ने भारतीय जवानों पर गोलियों की बरसात कर दी लेकिन गनीमत रही कि सुरक्षाबलों की सावधानी के चलते पाकिस्तानी आतंकियों के इस पलटवार को नाकाम कर दिया। उसके बाद भारतीय सेना अपना रौद्र रूप दिखते हुए सभी पाकिस्तानी आतंकवादियों को जहनुम भेज दिया। जय हिन्द!

कांग्रेस पार्टी ने कहा की वो सिर्फ मुसलमानो की पार्टी है!!!!

कांग्रेस पार्टी ने शुरू की हिन्दू और मुसलमानो की बटवारे की राजनीती!!!!

Video Source: Zee News

मीडिया के अनुसार, कांग्रेस पार्टी को मुस्लिमों की पार्टी कहने वाली बात पे राहुल गांधी की टिप्पणी को लेकर उनकी चुप्पी पर बीजेपी ने सवाल उठाते हुए कहा कि सभी विपक्षी पार्टी में मुस्लिम महिलाओं के लिए क्या कोई जगह नहीं है। कांग्रेस पार्टी द्वारा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर बीमार मानसिकता वाला व्यक्ति होने का आरोप लगाए जाने पर बीजेपी ने पलटवार किया और कुछ दिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कांग्रेस पार्टी पर आरोप लगाया था कि वह सिर्फ कुछ मुस्लिम पुरुषों के साथ खड़ी है। कांग्रेस पार्टी सिर्फ मुसलमानो के वोट के लिए ऐसा कर रही है, कांग्रेस पार्टी मुसलमानो का कभी भला नहीं करना चाहती है।

और जानने के लिए : BREAKING NEWS

मीडिया के अनुसार, बीजेपी के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा कांग्रेस पार्टी के नेता द्वारा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ इतना शर्मनाक आरोप लगाना उनकी बौखलाहट और उनकी हताशा को दर्शाता है। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राहुल गाँधी ने तीन तलाक पर मोदी सरकार की पहल को अब तक उनकी पार्टी का समर्थन नहीं दिया है और सिर्फ मुस्लमान औरतो को धोका दे रहे है, जबकि देश के उच्चतम न्यायालय ने इस तीन तलाक की प्रथा पर पाबंदी लगा दी।

Loading…

आप को बता दे की एक उर्दू अखबार में कांग्रेस पार्टी को मुसलमानो की पार्टी बताने जैसे संबंधी कथित टिप्पणी के लिये राहुल गाँधी को आड़े हाथ लिया और रविशंकर प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी अब अल्पसंख्यक समुदाय की सरपरस्ती कर रहे हैं और देश को बाटने की कोसिस कर रहे है। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि गुजरात चुनाव मे राहुल गांधी तब जनेऊधारी बन गए थे। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि कर्नाटक में भी राहुल गाँधी ने ऐसा ही किया था और अब चुनाव ख़तम हो गए तो उन्होंने मुसलमानों की सरपरस्ती शुरू कर दी है।

पाकिस्तान ने मांगी हिंदुस्तान से रहम की भिक!!!!

Breaking News : पाकिस्तान ने क्यों मांगी हिंदुस्तान से रहम की भिक!!!!

Video Source: Zee News

सूत्रों के अनुसार, भारत की आर्मी ने 4 जून 2018 को पाकिस्तान की 2 पोस्ट को तबाह कर दिया जिसके बाद पाकिस्तान आर्मी के चीफ ने भारत के आर्मी चीफ से फियरिंग बंद करने की भिक मांगी। आप को बता दे की कुछ दिन पहले भारत के 2 जवान शहीद होने के कारण हिंदुस्तान की आर्मी ने जवाबी कार्यवाई की और पाकिस्तान के 2 आर्मी पोस्ट को तबाह कर दिया और जिसके बाद पाकिस्तान ने अपने घुटने टेक दिया।

और जानने के लिए : BREAKING NEWS

जैसा की हम सब को पता है की मोदी सरकार ने रमजान के पावन दिनों मे आर्मी की तरफ से सीज़ फायर करने का आदेश दिया है लेकिन पाकिस्तान को रमजान से जयादा अपने आतंकवादियों की ज्यादा फ़िक्र है ऐसी लिया वो सीज़ फायर का उल्हंघन करता रहता है। कल बीजेपी के गृह राज्य मंत्री अहीर ने कहा की हमने होनी आर्मी को बोल रखा है की अगर कोई तुम पे हमला करता है तो आप उसका मुँह तोड़ जवाब दो।

Loading…

वही पाकिस्तान ने भारत को नुक्लिअर बम की गीदड़ धमकी दी है और कहा की अब भारत को तय करना है की आगे क्या करना है। ऐसा लगता है की पाकिस्तान अपनी औकात भूल गया है की उसकी कितनी औकात है वो सिर्फ दुसरो के फैके हुए टुकड़ो पे पलता है। वही भारत के आर्मी चीफ ने कहा की अगर पाकिस्तान अपनी हरकत से बाज़ नहीं आया तो उसको बहुत बुरे दिन देखने पड़ेंगे। भारत के आर्मी चीफ ने कहा की पाकिस्तान हमारी सब्र का इम्तहान लेना छोड़ दे वरना उसको पछताने का मौका भी नहीं मिलेगा।

भारतीय सेना ने जम्मू और कश्मीर में दिखा दिया की भारतीय सेना को ‘चैलेंज’ देने का अंजाम क्या होता है!!!!

भारतीय सेना को ‘चैलेंज’ देने वाले आतंकवादी को 24 घंटे में जहनुम भेजा!!!!

Video Source: Zee News

सूत्रों के अनुसार, भारतीय सेना को ‘चैलेंज’ देने वाला आतंकवादी को भारतीय सेना ने 24 घंटे में जहनुम भेजा। जैसा की हम सब को पता है की कुछ महीने पहले भारतीय सेना ने 258 आतंकवादियों की एक लिस्ट बनायीं थी और आप को बता दे की वो लिस्ट अब पूरी होने का समय आ गया है। अब पाकिस्तान को भी ये समझ में आ गया होगा की भारतीय सेना से पन्गा लेने का मतलब है की सीधे जहनुम जाने की टिकट मिलेगा।

और जानने के लिए : BREAKING NEWS

मीडिया के अनुसार, जम्मू कश्मीर का एक आतंकवादी ने हमारी भारतीय सेना को चैलेंज किया था की वो उसका कुछ नहीं बिगड़ सकते है और वो जम्मू कश्मीर का रियल टाइगर है लेकिन हमारी भारतीय सेना ने उस आतंकवादी को बता दिया की असली टाइगर कौन है और उसे 24 घंटे में ही जहनुम भेज दिया। आप को इस वीडियो में साफ़ देख सकते है की कैसे हमारी भारतीय सेना उस आतंकवादी को जहनुम भेजा।

Loading…

आप को बता दे की हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहले ही हमारी सेना को ऐसे आर्डर दिया है की आतंकवादियों को गिरफ्तार नहीं करना है सीधे उन्हें उनके असली जगह पे भेज दे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय सेना को अपने हिसाब से काम करने की पूरी छूट दी हुई है और हमारी सेना उस काम बहुत अच्छे से कर रही है। जैसा की हम सब को पता है की पिछले 4 सालो में हमारे देश के अंदर एक भी बम धमाका नहीं हुआ और कोई भी आतंकवादी हमला नहीं हुआ। 

संसद में कामकाज नहीं होने पर कांग्रेस पार्टी ने बदला गिरगिट जैसा रंग!!!!

कांग्रेस पार्टी ने संसद में कामकाज नहीं होने पर बदला गिरगिट जैसा रंग!!!!

onlynarendramodiji modi, modi website, modi contacts, bjp leaders, bjp list
सूत्रों के अनुसार, कांग्रेस पार्टी ने संसद की कार्यवाही ठप होने के खिलाफ अनशन करने की तैयारी की है। जैसा हम सब को पता है की संसद की 23 दिनों का सत्र पूरी तरह से ठप करने मे कांग्रेस पार्टी का सब बड़ा हात था और अब वही कांग्रेस पार्टी गिरगिट के जैसे रंग बदल के अनशन करने की तैयारी कर रही है। जैसा की पुरे देश को पता है की मोदी सरकार के सभी सांसदों ने अपना 23  दिनों का भत्ता लेने से मन कर दिया है। कांग्रेस पार्टी बीजेपी के इस दाव  को विफल करना चाहती है लेकिन अब देश की जनता को कांग्रेस का चरित्र समझ गयी है। वही कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता मोदी सरकार के खिलाफ और देश में सांप्रदायिक सौहार्द तथा शांति को बढावा देने के लिए देश के सभी राज्य और जिला मुख्यालयों में एकदिवसीय अनशन करने का प्लान कर रही हैं।
और जानने के लिए : BREAKING NEWS

सूत्रों के अनुसार, कांग्रेस पार्टी के राहुल गांधी दिल्ली मे कांग्रेस के प्रमुख अजय माकन तथा कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ मोदी सरकार तथा सीबीएसई पेपर लीक, पीएनबी घोटाले, कावेरी मुद्दे तथा आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जे जैसे सभी महत्वपूर्ण विषयों पर संसद में चर्चा न कराने में उसकी नाकामी के खिलाफ धरना देने जा रहे है।

Loading…

राहुल गांधी शायद ये भूल गए है की देश की जनता अब पहले जैसी नहीं रही अब देश की जनता को सब पता चलता है की कौन सी पार्टी क्या कर रही है और किस मुद्दे पे क्या बोल रही है। राहुल गांधी को जल्द ही उनके सपनो की दुनिया से देश की जनता जल्द ही राहुल गांधी को उठा देगी और उनको इसका एहसास भी जल्द ही दिला देगी।

इस्लामिक हेरिटेज कार्यक्रम मे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिया मुस्लिम धर्म पर बड़ा बयां!!!!

जानिए क्या कहा? प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुस्लिम धर्म के बारे मे?

Video Source: Zee News

कुछ दिनों पहले विज्ञान भवन में आयोजित इस्लामिक हेरिटेज के कार्यक्रम मे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि जॉर्डन के किंग अब्दुल्लाह द्वितीय बिन अल हुसैन पैगंबर मुहम्मद की इस्लाम की असली पहचान बनाने में एक बहुत ही अहम भूमिका है। वहीं जॉर्डन के किंग अब्दुल्लाह द्वितीय बिन अल हुसैन पैगंबर मुहम्मद ने अपने संबोधन में कहा कि वह रोजाना अपने बच्चो को इस्लाम की विरासत के बारे में बताते हैं और उन्होंने कहा की इस्लाम सिखाता है की हमे हमेशा दुसरो की सब से पहले मदद करनी चाइये फिर अपने देश की उसके बाद अपनी खुद की।

जानिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन की कुछ खास बातें –

1. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा की इंसानियत के खिलाफ दरिंदगी करने वाले हमेशा भूल जाते हैं कि वह जिस मजहब की नाम ले कर ऐसा करते है अक्सर वो उसी मजहब का नुकसान कर रहे हैं, जिस मजहब का वो लोग होने का दावा करते हैं।
2. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा की आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई किसी भी धर्म के विरूद्ध नहीं है बल्कि उन युवाओं को भ्रमित करने वाली मानसिकता के खिलाफ है।
3. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा आतंकवाद और कट्टरपंथ को खत्म करने के लिए भारत हमेशा जॉर्डन के साथ खड़ा है और रहेगा।
4. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा भारत में अगर हम तरक्की और विकाश चाहते हैं तो हर एक नागरिक को एक साथ चलने की आवश्यकता है और हमे आतंकवाद और कट्टरपंथ को खत्म करने के लिए सब का साथ चाइये।

Loading…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कोई भी मज़हब का मर्म अमानवीय हो ही नहीं सकता क्युकी हर पन्थ, हर संप्रदाय, हर परंपरा मानवीय मूल्यों को ज्यादा से ज्यादा बढ़ावा देने के लिए ही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज के समय मे सबसे ज्यादा ज़रूरत इस बत की है कि हमारे देश के युवा एक तरफ इस्लाम के मानवीय पक्ष से जुड़े रहे और दूसरी तरफ आधुनिक और नयी तकनीक विज्ञान और तरक्की के साधनों का इस्तेमाल भी कर सकें। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा भारत में हमारी सरकार की यह कोशिश है कि सबकी तरक्की के लिए सबको हमारी सरकार साथ लेकर चलें।

और जानने के लिए पढ़े : BREAKING NEWS

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत ने पूरी दुनिया को अपने परिवार जैसा मानकर उसके साथ अपनी पहचान बनाई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि जॉर्डन एक बहुत ही पवित्र भूमि पर आबाद है जहां से ख़ुदा का पैग़ाम पैगम्बरों और संतों की आवाज़ बनकर पूरी दुनिया भर में गूंजा रहा है।

राज्यसभा में बोले बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी, ‘गोमांस निर्यातकों को फांसी की सजा होनी ही चाहिए!!!!

बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने राज्यसभा में गौ सरंक्षण बिल-२०१७ किया – ‘गोमांस निर्यातकों को फांसी!!!!


Video Source: NMF News

मीडिया के अनुसार, बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने राज्यसभा में गौ सरंक्षण बिल-2017 पेश किया और सुब्रमण्यम स्वामी ने बिल पेश करते हुए मांग की कि गौ हत्या के दोषियों और गो मांस निर्यातकों को कड़े दंड के साथ फांसी की सजा का भी प्रावधान होना ही चाहिए।

Loading…

सदन में बिल पेश करते हुए सुब्रमण्यम स्वामी ने इतिहास का जिक्र करते हुए कहा कि मुगल काल में भी बहादुर शाह जफर ने गौ हत्या पर उस समय प्रतिबंध लगाया था। सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि अंग्रेजों के आने के बाद ही देश में गौ हत्या का चलन फिर से बढ़ा था। सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि आधुनिक विज्ञान ने यह बात साबित कि है की गोमूत्र से बहुत सी दवा और कीटनाशक बनाए जा रहे हैं। सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि अमेरिका ने इसके लिए कई सारे पेटेंट भी हासिल कर लिया है और सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि सरकार को हर एक गांव में गोशाला बनानी चाहिए और गौवंश के संरक्षण पर बहुत बल देना चाहिए।

और जानने के लिए पढ़े : BREAKING NEWS

सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि दुनिया मे गोमांस निर्यात की अत्यधिक मांग है और इसलिए सरकार को इस धंधे में लगे लोगों को कड़ी से कड़ी सजा दी जानी चाहिए। सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि इसमें अर्थदंड से लेकर फांसी की सजा तक होनी चाहिए। सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि गाय के संरक्षण पर सब को ध्यान देना चाइये और गाय को राजनीतिक पशु नहीं बनाना चाहिए।

Loading…

सूत्रों के अनुसार, गुजरात राज्य में गोहत्या करने वालों को अब कड़ा दंड दिया जाएगा और दोष सिद्ध होने पर उनको उम्रकैद की सजा दी जाएगी। जैसा की हम सब को पता है की गुजरात विधानसभा में गौ हत्या संशोधन बिल पास हो गया है और इसके तहत गाय की हत्या करने वालों को अब उम्रकैद की सज़ा होगी। गौ हत्या संशोधन बिल के साथ ही गाय की तस्करी करने वालों के लिए भी 10 साल की सज़ा का प्रावधान है और इतना ही नहीं नए कानून में गुजरात सरकार ने जुर्माना राशि को भी दोगुना कर दिया है। गौ हत्या संशोधन बिल के तहत अब इस कानून में एक लाख से पांच लाख रुपये जुर्माने की सजा होगी और इस कानून बनाकर गुजरात भारत का पहला राज्य बन गया है जहां गाय की हत्या करने वालो पर उम्रकैद की सज़ा होगी।

ताक़तवर देश इजरायल के प्रधानमंत्री नेतन्‍याहू ने बोला – जय हिंद! जय भारत! जय इजराइल!

Big News : इजराइल जैसे देश ने भी कहा जय हिंद! जय भारत!

Video Source: Oneindia Hindi

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू अपने भारत दौरे के तीसरे दिन गुजरात के दौरे पर आये हैं। प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अहमदाबाद हवाई अड्डे से लेकर साबरमती आश्रम का तक 8 किलोमीटर तक रोड शो भी किया।

Loading…

इसके बाद दोनों प्रधानमंत्री ने आई-क्रिएट सेंटर के नए कैंपस का उद्घाटन भी किया। आप सब को बता दे की यह आई-क्रिएट सेंटर अहमदाबाद से करीब 50 किलोमीटर दूर साणंद में बना हुआ है और इसकी शुरुआत 2011 में हुई शुरू हो गयी थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि मुझे आज बहुत हे ज्यादा खुशी है कि आज इजरायल के प्रधानमंत्री की उपस्थिति में इस आई-क्रिएट सेंटर के नए कैंपस का उद्घाटन हो रहा है। मैं उनका बहुत आभारी हूं कि उन्‍होंने भारत-गुजरात आने का उनका निमंत्रण स्‍वीकार किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा की यहां साबरमती आश्रम में इजरायल के प्रधानमंत्री को चरखा चलते देखना और उनको पतंग उड़ाते देख के मुझे बहुत खुसी हो रही थी और मैं मेरे मित्र नेतन्‍याहू के भारत आने का बहुत बेसब्री से इंतजार कर रहा था।

और जानने के लिए पढ़े : BREAKING NEWS

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि मैं हमेशा चाहता था कि आई क्रिएट सेंटर का इजरायल से गहरा संबंध हो और इजरायल ने यह साबित भी किया कि देश का सिर्फ आकर नहीं बल्कि देशवासियों का संकल्‍प देश को आगे ले जाता है।

Loading…

प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्‍याहू ने कहा, हाइफा की मुक्ति में भारत देश के सेनिको का बहुत बड़ा योगदान था और इस के दौरान जिन कई भारतीय सैनिकों ने अपने जीवन का बलिदान दिया, उनमें से कई गुजराती थे, धन्‍यवाद गुजरात। उसके बाद प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्‍याहू ने एक नारा लगाया जिसको सुन्न कर आज सरे देश के लोगो को बहुत अच्छा लगेगा उन्होंने  कहा जय हिंद! जय भारत! जय इजराइल! और उसके बाद उन्होंने धन्‍यवाद प्रधानमंत्री मोदी, बोल के सभी का धन्‍यवाद किया। 

बीजेपी संसद सुब्रमण्यम स्वामी ने किया दावा – अयोध्‍या में राम मंदिर का निर्माण जल्‍द, अगली दीवाली वहीं मनाएंगे!!!!

Breaking News:- सुब्रमण्यम स्वामी का दावा अयोध्‍या में राम मंदिर का निर्माण जल्‍द, अगली दीवाली वहीं मनाएंगे!!!!

बीजेपी संसद सुब्रमण्यम स्वामी ने किया दावा - अयोध्‍या में राम मंदिर का निर्माण जल्‍द, अगली दीवाली वहीं मनाएंगे!!!! onlynarendramodiji
सूत्रों के अनुसार, बीजेपी के बहुत ही वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने दावा किया कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण जल्द शुरू होने वाला है और अगली दिवाली 2018 तक देश दुनिया के श्रद्धालु उसमें जा सकते हैं। सुब्रमण्यम स्वामी ने शनिवार रात को ‘रामराज्य’ राम मंदिर के विषय पर यहां एक व्याख्यान में कहा, ”हम अगली दिवाली अयोध्या में राम मंदिर में मनाएंगे.” सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा, ”यह संभव है कि अयोध्या में राम मंदिर अगले वर्ष 2018 अक्‍टूबर तक लगभग पूरी तरह से तैयार हो जाए क्योंकि मंदिर के निर्माण की सभी उपकरण पहले से तैयार है तथा निर्माण के लिए सभी सामग्री पहले से निर्मित है। उसे सिर्फ केवल जोड़ना है और जैसा स्वामी नारायण मंदिर के मामले में हुआ था.”।

Loading…

बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने रामजन्मभूमि और बाबरी मस्जिद मामले की पांच दिसंबर को होने वाली सुनवाई से पहले कहा की, ”इलाहाबाद हाई कोर्ट ने पहले ही इस मामले में काफी गहराई तक गौर कर चुका है और सुन्नी वक्फ बोर्ड ने भी इस मामले मे मंदिर बनाने की पक्ष मे है”। भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए एक नया कानून बनाने की कोई जरूरत नहीं है। सुब्रमण्यम स्वामी ने दावा किया कि तत्कालीन नरसिंह राव सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दायर एक याचिका में कहा था कि यदि यह स्थापित हो जाता है कि उस स्थान पर एक मंदिर था तो जमीन मंदिर के निर्माण के लिए दे दी जाएगी और यह बात अब साबित हो गया है की अयोध्या की उस जमीन पे मंदिर ही था”।
बीजेपी संसद सुब्रमण्यम स्वामी ने किया दावा - अयोध्‍या में राम मंदिर का निर्माण जल्‍द, अगली दीवाली वहीं मनाएंगे!!!! onlynarendramodiji

और जानने के लिए पढ़े : BREAKING NEWS 

मीडिया की अनुसार, अयोध्या राम मंदिर पर चल रहे जमीन विवाद के बीच केंद्रीय शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष सैयद वसीम रिजवी ने पिछले दिनों बड़ा बयान दिया था उन्होंने कहा कि, विभिन्न पार्टियों के साथ चर्चा के बाद हमने एक प्रस्ताव तैयार किया है जिसमें अयोध्या में भगवन राम मंदिर का निर्माण हो और मस्जिद का निर्माण लखनऊ में करवाया जा सकने की बात कही गई है। सैयद वसीम रिजवी ने कहा कि यह एक ऐसा समाधान है जो देश में शांति और भाईचारे को सुनिश्चित करेगा और सैयद वसीम रिजवी ने आगे कहा कि लखनऊ के हुसैनाबाद में एक भावय मस्जिद का निर्माण करवाने का प्रस्ताव है। उन्होंने कहा की मस्जिद को बाबार और मीर के नाम पर नहीं बनाया जाएगा और उन्होंने ने कहा की मस्जिद का नाम मस्जिदे अमन रखा जाएगा।

Loading…

रिपोर्ट की अनुसार, सैयद वसीम रिजवी ने सुन्नी वक्फ बोर्ड की हो रही आपत्ति पर भी बयान दिया था। सैयद वसीम रिजवी ने कहा की यह शिया वक्फ की मस्जिद थी, लिहाजा इसमें सिर्फ शिया वक्फ बोर्ड का हक है। सैयद वसीम रिजवी ने कहा की यह मंदिर-मस्जिद निर्माण को लेकर आपसी समझौते का मामला है, इसलिए इसमें कोई भी समाज, सुन्नी समाज के लोग, सुन्नी वक्फ बोर्ड के लोग सुलह के लिए हमारी दी गयी शर्तों पर बैठ जरूर सकते हैं, लेकिन अगर कोई भी नकारात्मक सोच के साथ इस मे बैठता है, तो उसे आने नहीं दिया जाएगा. उन्होंने कहा की हम इस मसले को और उलझाना नहीं चाहते।

श्री श्री रवि शंकर: अयोध्या विवाद में मध्यस्थ के तौर पर अपनी इच्छा से शामिल हूं!!!!

Breaking News :- अयोध्या राम मंदिर विवाद पे हिंदुस्तान के हिन्दू – मुस्लमान आये साथ!!!!

Video Source: Zee News

मीडिया के अनुसार, मुस्लमान वक्फ बोर्ड और हिन्दू धर्म गुरुओ ने साथ मिलकर अयोध्या राम मंदिर विवाद पैर बहुत बड़ा फैसला लिया है। लेकिन कुछ पोलिटिकल पार्टीयो को ये बात हजम नहीं हो रही है क्युकी अगर ऐसा हो गया तो उनकी वोट बैंक की दुकान बंद हो जाएगी। ऐसे पार्टिया नहीं चहाती की देश के हिन्दू – मुस्लमान एक साथ हो जाये। देश मे ऐसा पहली बार हुआ है की मुस्लमान वक्फ बोर्ड और हिन्दू धर्म गुरु साथ हो कर फैसला ले रहे है। देश के आध्यात्मिक गुरू श्री श्री रविशंकर ने सोमवार को कहा कि वह अयोध्या राम मंदिर विवाद में अपनी इच्छा से एक मध्यस्थ के तौर पर शामिल हुए हैं। श्री श्री रविशंकर ने कहा कि वह सभी हितधारकों से मिलने के लिए 16 नवंबर को अयोध्या जायेंगे। दरअसल, कांग्रेस पार्टी ने पिछले महीने श्री श्री रविशंकर को मोदी सरकार का एक एजेंट करार दिया था और जो अयोध्या राम मंदिर विवाद में इसके हितों का प्रतिनिधित्व कर रहे है।

Loading…

और जानने के लिए पढ़े : नरेंद्र मोदी सरकार ने किया ऐलान, घर बैठकर कमाए 2 लाख का इनाम!!!!

मीडिया के रिपोर्ट के अनुसार, कांग्रेस प्रवक्ता टॉम वडक्कन ने कहा था कि उच्चतम न्यायालय ने यह बहुत स्पष्ट कर दिया है कि यह अयोध्या राम मंदिर विवाद समझौता संभव है लेकिन उन्होंने पूछा कि किसने ‘आर्ट ऑफ लिविंग फाउंडेशन’ प्रमुख जैसे लोगों को इस काम के लिए नियुक्त किया। श्री श्री रविशंकर ने कांग्रेस प्रवक्ता टॉम वडक्कन को जवाब देते हुए कहा कि वह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से एक शिष्टाचार मुलाकात करेंगे और उन्होंने कहा की, ‘‘यह मेरी अपनी इच्छा थी कि मैं अयोध्या राम मंदिर विवाद में एक मध्यस्थ के तौर पर शामिल होऊं.’’।

Loading…

श्री श्री रविशंकर ने इस बात की पुष्टि की कि वह अयोध्या की यात्रा करेंगे और उन्होंने कहा की, ‘‘अयोध्या राम मंदिर विवाद में मेरा कोई एजेंडा नहीं है और मे इस यात्रा के दौरान हर किसी देश वासिओ की सुनुंगा।’’ श्री श्री रविशंकर ने अयोध्या राम मंदिर विवाद में मध्यस्थता की इसलिए पेशकश की थी कि इसका अदालत से बाहर हमारे देश की हिन्दू और मुस्लमान भाई कोई हल निकाल सके और श्री श्री रविशंकर ने जेएनयू में 13 वें नेहरू मेमोरियल लेक्चर में भी हिस्सा लिया और वहां मौजूद लोगों के कई सवालों का जवाब भी दिया था।

गुजरात कांग्रेस प्रभारी अशोक गहलोत ने ट्वीट कर दी सफाई की उस दिन होटल में हार्दिक पटेल और जिग्‍नेश मेवानी से मुलाकात की!!!!

राहुल गांधी – हार्दिक पटेल की ‘सीक्रेट मीटिंग’ की पोल खुलने पर “कांग्रेस” के छूटे पसीने!!!!

राहुल गांधी - हार्दिक पटेल की 'सीक्रेट मीटिंग' की पोल खुलने पर "कांग्रेस" के छूटे पसीने onlynarendramodiji
मीडिया के अनुसार, कांग्रेस नेता राहुल गांधी और पाटीदार आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल की होटल के अंदर हुई गुप्‍त मीटिंग पर “सस्‍पेंस” कांग्रेस ने छुपी बरक़रार रखी है। सूत्रों के अनुसार, गुजरात के कांग्रेस प्रभारी अशोक गहलोत ने गुजरात पुलिस पर कांग्रेस नेताओं की जासूसी का आरोप लगाया है। अशोक गहलोत ने कई ट्वीट के माध्‍यम से आरोप लगाया है कि वह अहमदाबाद के जिस होटल में ठहरे थे, उसकी सीसीटीवी फुटेज गुजरात पुलिस ने हासिल की है और उनकी जासूसी का आरोप लगाया।

Loading…

मीडिया के अनुसार, कई गुजराती चैनलों ने फुटेज चलाई कि हार्दिक पटेल उस होटल में गए जहां राहुल गांधी ठहरे थे। इस फुटेज के आने के बाद अशोक गहलोत ने आरोप लगाया कि गुजरात पुलिस और आईबी ने उन सीसीटीवी फुटेज को होटल से प्राप्‍त किया और उनकी जासूसी की। अशोक गहलोत के मुताबिक वह उस दिन दिन भर कई नेताओं से मुलाकात कर रहे थे। अशोक गहलोत ने ट्वीट कर पूछा, ”आईबी और पुलिस ने होटल से सीसीटीवी फुटेज हासिल क्‍यों किए? अशोक गहलोत ने कहा की बीजेपी के आदेश से इस तरह के सर्विलांस की मैं निंदा करता हूं.”

मीडिया के अनुसार, अशोक गहलोत ने ट्वीट कर कहा मैंने उस दिन होटल में हार्दिक पटेल और जिग्‍नेश मेवानी से मुलाकात की थी लेकि न उन्होंने ने ये नहीं बताया की राहुल गाँधी ने भी हार्दिक पटेल से मुलाकात की थी या नहीं। उन्होंने कहा की क्‍या हार्दिक पटेल और जिग्‍नेश मेवानी अपराधी या भगोड़े हैं? यदि ऐसा है तो बीजेपी को अपना स्‍टैंड साफ करना चाहिए की हार्दिक पटेल और जिग्‍नेश मेवानी अपराधी या भगोड़े हैं। अशोक गहलोत ने कहा की जब इनकी मुलाकात बीजेपी नेताओं से मुलाकात हुई थी तब तो उनके ऑफिसों की जांच नहीं हुई थी? और अब ऐसा क्‍यों हो रहा है?

Loading…

सूत्रों के अनुसार, हार्दिक पटेल ने राहुल गांधी से मुलाकात की लेकिन एक पब्लिक मीटिंग में कहा था कि वह अशोक गहलोत से मिले थे और अगली बार जब राहुल गांधी आएंगे तब उनसे मिलेंगे। क्या राहुल गांधी और कांग्रेस पार्टी चुप कर कोई बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ कोई साजिस कर रहे है। वैसे भी कांग्रेस पार्टी का इतिहास बहुत अच्छा नहीं रहा है जैसा की पुरे देश को पता है।

मोदी सरकार के मंत्रिमंडल में फेरबदल रविवार को, जानें क्या-क्या हो सकता है!!!!

जानें क्या-क्या फेरबदल हो सकता है, मोदी सरकार के मंत्रिमंडल में!!!!

जानें क्या-क्या फेरबदल हो सकता है, मोदी सरकार के मंत्रिमंडल में onlynarendramodiji
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मोदी सरकार के कैबिनेट में बदलाव को लेकर सभी ओर कयास लगाए जा रहे हैं, माना जा रहा है कि नए मंत्रिमंडल में कई पुराने चेहरे को अलविदा कहते हुए नए नाम चेहरे को शामिल किए जा सकते हैं। 
मोदी सरकार के कैबिनेट में बदलाव को लेकर सभी ओर कयास लगाए जा रहे हैं, माना जा रहा है कि नए चेहरे को मंत्रिमंडल में कई पुराने चेहरे को अलविदा कहते हुए नए नाम शामिल किए जा सकते हैं। मीडिया के अनुसार, कुछ मंत्रियों के कंधों से अतिरिक्त प्रभार को हल्का करते हुए अन्य नए मंत्रियों को जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है। वहीं ऐसा लग रहा की कुछ फैसले चौंका भी सकते हैं, इस बीच कई मंत्रियों ने पहले ही अपने पद से इस्तीफा दे दिया है और ऐसा माना जा रहा है कि इस बार उन मंत्रियों की छुट्टी होना तय है जिनकी परफॉर्मेंस उम्मीदों पर खरी नहीं उतरी है।
मई 2014 में मोदी सरकार के केंद्र में सत्ता मे आने के बाद यह मंत्रिमंडल में तीसरा फेरबदल होगा। ऐसा मन जा रहा है की साल 2019 में होने वाले अगले लोकसभा चुनाव से पहले मंत्रिमंडल में होने वाले इस फेरबदल को काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है। मीडिया के अनुसार, इसे कामकाज और जमीनी राजनीति के बीच संतुलन स्थापित करने के प्रयास के रूप में देखा जा रहा है।

कई मंत्रियों का बोझ हो सकता है कम – 

सूत्रों के अनुसार, केंद्रीय मंत्रिमंडल में इस साल मार्च से जुलाई महीने के बीच विभिन्न कारणों से खाली हुए मंत्रालयों का अतिरिक्त प्रभार संभाल रहे चार मंत्रियों का बोझ रविवार को कैबिनेट में होने वाली फेरबदल के बाद कम हो सकता है। ऐसा मन जा रहा है की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस नए मंत्रिमंडल विस्तार में नए चेहरों को शामिल कर सकते हैं जिससे अतिरिक्त कामकाज देख रहे इन मंत्रियों पर बोझ कम होगा।

जैसा की हम सब को पता है की मार्च में मनोहर पर्रिकर ने रक्षा मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया था, वह बाद में गोवा के मुख्यमंत्री बन गए। वित्त और कार्पोरेट मामलों के मंत्री अरुण जेटली को रक्षा मंत्रालय की अतिरिक्त जिम्मेदारी मोदी सरकार ने सौंपी दी। मई महीने में तत्कालीन पर्यावरण और वन मंत्री अनिल माधव दवे का निधन होने से यह जगह खाली हो गई, इस मंत्रालय का अतिरिक्त कामकाज विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री हर्षवर्धन को सौंप दिया गया था।
अभी हाल हे मे जुलाई महीने में वेंकैया नायडू ने उपराष्ट्रपति पद के लिए राजग का उम्मीदवार चुने जाने के बाद केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया था। वह आवास और शहरी विकास मंत्रालय का काम देख रहे थे जिसे अतिरिक्त प्रभार के रूप में ग्रामीण विकास, पंचायती राज और पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को दे दिया गया था।

Loading…

वेंकैया नायडू सूचना और प्रसारण मंत्री भी थे और इस विभाग की अतिरिक्त जिम्मेदारी वस्त्र मंत्री स्मृति ईरानी के खाते में आ गई है। इन सबके अलावा रविशंकर प्रसाद कानून एवं न्याय और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालयों का कामकाज देख रहे हैं और इसे देखते हुए इन मंत्रियों पर बढ़े अतिरिक्त प्रभार को नए मंत्रियों को सौंपा जा सकता है।
जानें क्या-क्या फेरबदल हो सकता है, मोदी सरकार के मंत्रिमंडल में onlynarendramodiji

कई नए चेहरे होंगे मंत्रिमंडल शामिल – 

मोदी सरकार के मंत्रिमंडल का बहुप्रतीक्षित फेरबदल रविवार को होगा जिसमें करीब एक दर्जन मंत्रियों को शामिल किया जा सकता है। सूत्रों के अनुसार, रविवार को सुबह दस बजे होने वाले इस फेरबदल में भाजपा के सहयोगी दलों से कुछ चेहरों को स्थान दिए जाने की उम्मीद है।

मीडिया के अनुसार, मंत्रिमंडल में होने वाले फेरबदल से पहले चार मंत्री राजीव प्रताप रुडी, संजीव कुमार बालियान, फग्गन सिंह कुलस्ते और महेंद्र नाथ पांडे इस्तीफा दे चुके हैं। समझा जाता है कि श्रम एवं रोजगार मंत्री बंडारू दत्तात्रेय ने भी इस्तीफा दिया है।
भाजपा के सूत्रों ने बताया कि इनके अलावा दो कैबिनेट मंत्रियों की ओर से भी इस्तीफे की पेशकश करने की बात सामने आई है जिनमें उमा भारती और कलराज मिश्र के नाम की चर्चा है। सूत्रों के अनुसार, मिश्र ने मोदी से मुलाकात की और इस्तीफे की पेशकश की।
हालांकि, इस्तीफे की बात पर उमा भारती ने अपने विचार ट्विटर के जरिए साझा करते हुए लिखा, ‘कल से चल रही मेरे इस्तीफे की खबरों पर मीडिया ने प्रतिक्रिया पूछी। इस पर मैंने कहा कि मैंने ये सवाल सुना ही नहीं, न सुनूंगी, न जवाब दूंगी.’’ अपने अगले ट्वीट में उन्होंने लिखा, ‘इस बारे में या तो राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह या अध्यक्ष जी जिसको नामित करे, वही बोल सकते है। मेरा इस पर बोलने का अधिकार नहीं है.’ अरुण जेटली के पास इस समय वित्त और रक्षा मंत्रालय है. सूत्रों ने बताया कि उनके पास एक मंत्रालय ही रह सकता है।
सूत्रों के अनुसार, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी का नाम ऐसे मंत्रियों में लिया जा रहा है, जिनका कामकाज काफी अच्छा रहा है। ऐसे में उन्हें अधिक जिम्मेदारी दी जा सकती है। मीडिया के सूत्रों ने बताया कि रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने रेल दुर्घटना की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा देने की पेशकश की थी, ऐसे में उन्हें दूसरा मंत्रालय दिया जा सकता है।
सूत्रों के अनुसार, भाजपा महासचिव भूपेन्द्र यादव, पार्टी उपाध्यक्ष विनय सह्रस्त्रबुद्धे के अलावा प्रह्ललाद पटेल, सुरेश अंगडी, सत्यपाल सिंह, हेमंत विश्व शर्मा, महेश गिरि, शोभा करंदलाजे और प्रह्लाद जोशी को मंत्रिमंडल मे भी मंत्री बनाया जा सकता है। सूत्रों के अनुसार, बिहार में भाजपा के साथ गठबंधन सरकार बनाने वाली जदयू के भी मंत्रिमंडल में शामिल होने की संभावना है और जदयू की ओर से आर सी पी सिंह और संतोष कुमार के मंत्री बनाए जाने की चर्चा है।

Loading…

मीडिया के अनुसार, अन्नाद्रमुक नेता एम थम्बीदुरै ने कल भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात की थी। ऐसी संभावना है कि अगर अन्नाद्रमुक केंद्र सरकार में शामिल होने का फैसला करती है तो इस पार्टी से थम्बीदुरई के अलावा पी वेणुगोपाल और वी मैत्रेयन इसमें शामिल हो सकते हैं। हालांकि अन्नाद्रमुक ने इस खबर की अभी तक कोई पुष्टि नहीं की है।
जैसा हम सब को पता है की वर्तमान में अभी केंद्रीय मंत्रिमंडल में प्रधानमंत्री समेत 73 सदस्य हैं और कैबिनेट में मंत्रियों की संख्या 81 से अधिक नहीं हो सकती। ऐसे में कैबिनेट में कौन नए चेहरे शामिल होंगे इसे लेकर देश मे सभी के बीच उत्सुकता बनी हुई है।

मोदी सरकार ने चीन और पाकिस्तान को बता दिया है, जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न और अटूट हिस्सा है!!!!

चीन और पाकिस्तान को बता दिया है, जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न और अटूट हिस्सा है!!!!

Video Source: NMF News

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मोदी सरकार ने स्पष्ट किया है कि जम्मू-कश्मीर भारत देश का अभिन्न और अटूट हिस्सा है और यह बात चीन और पाकिस्तान को उच्चतम स्तरों सहित कई अवसरों पर स्पष्ट कर दिया गया है। सूत्रों के अनुसार, चीन ने भारत के 43,180 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र पर अवैध रूप से कब्जा कर रखा है, जबकि हम सब को पता है कि पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर के 78 हजार वर्ग किलोमीटर भारतीय क्षेत्र पर अवैध कब्जा कर रखा है। आरटीआई के अधिकार के तहत विदेश मंत्रालय से मिली जानकारी के मुताबिक वर्ष 1962 के बाद से जम्मू-कश्मीर में भारत की भूमि का लगभग 38 हजार वर्ग किलोमीटर भूभाग चीन ने अपने कब्जे में कर रखा है। मंत्रालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार, इसके अतिरिक्त 2 मार्च 1963 को चीन और पाकिस्तान के बीच हस्ताक्षरित चीन-पाकिस्तान ‘सीमा करार’ के तहत पाकिस्तान ने पाक अधिकृत कश्मीर के 5180 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र को अवैध रूप से चीन को दे दिया था।

Loading…

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, विदेश मंत्रालय ने कहा, जम्मू-कश्मीर राज्य भारत का एक अभिन्न और अटूट हिस्सा है और यह बात उच्चतम स्तरों सहित कई अवसरों पर चीन और पाकिस्तान को सूचित कर दी गई है। विदेश मंत्रालय का यह बयान ऐसे समय पर आना बेहद महत्वपूर्ण है जब चीन के ‘वन बेल्ट, वन रोड’ को लेकर दोनों देशों के रिश्ते मे बेहद तनावपूर्ण हैं। चीन का यह गलियारा पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से होकर गुजरता है, इसी कारण भारत ने चीन के ‘वन बेल्ट, वन रोड’ पर आयोजित सम्मेलन का बहिष्कार किया दिया है। इसके साथ ही भारत और चीन के बीच सिक्किम सेक्टर में डोकलाम विवाद को लेकर दोनों देशों के रिश्ते तनावपूर्ण हैं। जैसा कि हम सब को पता है कि हाल ही में जब भारत ने सुझाव दिया था कि दोनों देश डोकलाम से एक साथ अपनी सेनाएं हटा लें, तब चीन ने इस सुझाव को मानने से इनकार कर दिया था। चीन के विदेश मंत्रालय में सीमा एवं समुद्री मामलों की उपमहानिदेशक वांग बेन्ली ने कहा था कि नई दिल्ली क्या करेगा अगर चीन के सेना उत्तराखंड के कालापानी या कश्मीर में घुस जाए।

और जानने के लिए पढ़े : अब क्या होगा ड्रैगन का? भारतीय सेना ने बनायीं ड्रैगन को मात देने के लिए खास रणनीति!!!!

मीडिया के अनुसार, आरटीआई के जवाब में विदेश मंत्रालय के पीएआई प्रकोष्ठ ने बताया कि जहां तक पाकिस्तान की ओर से भारतीय क्षेत्र पर कब्जे का सवाल है, पाकिस्तान का जम्मू कश्मीर के 78 हजार वर्ग किलोमीटर भारतीय क्षेत्र पर अवैध कब्जा है। इसके अलावा पाकिस्तान ने चीन-पाकिस्तान सीमा समझौते के तहत 5180 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र को अवैध रूप से चीन को दे दिया है। सूत्रों के अनुसार, विदेश मंत्रालय ने कहा, ‘भारत सरकार का रुख पूरी तरह से स्पष्ट है और जम्मू कश्मीर भारत का अटूट हिस्सा है और इस पर कोई बात नहीं हो सकती। शिमला समझौते के तहत भी भारत की सरकार और पाकिस्तान की सरकार जम्मू कश्मीर के विषय समेत सभी लंबित मुद्दों का द्विपक्षीय वार्ता के जरिये समाधान निकालने को प्रतिबद्ध हैं।

मीडिया के अनुसार, विदेश मंत्रालय ने बताया कि यह बात पाकिस्तान सरकार को भी कई अवसरों पर बताई जा चुकी है और इस रुख को अंतरराष्ट्रीय समुदाय के समक्ष उच्चतम स्तर पर भी व्यक्त किया जा चुका है। सूत्रों के अनुसार, सूचना के अधिकार के तहत विदेश मंत्रालय से यह पूछा गया था कि चीन और पाकिस्तान ने भारत के कितने क्षेत्र पर कब्जा कर रखा है? और इस बारे में सरकार की क्या पहल है? चीन के साथ सीमा विवाद और घुसपैठ के बारे में एक सवाल के जवाब में भारत के रक्षा मंत्रालय के समन्वित मुख्यालय ने कहा कि भारत और चीन के बीच सीमांकन औपचारिक रुप से कभी नहीं किया गया है। ऐसे में वास्तविक नियंत्रण रेखा को लेकर दोनों देशो में गश्ती को लेकर अपनी अपनी समझ है, इसके कारण अस्थायी तौर पर अतिक्रमण की घटनाएं सीमा पे होती रहती हैं। इसमें कहा गया है कि किसी तरह के मतभेद होने की स्थिति में सीमा सुरक्षा कर्मियों के बीच बैठक या सैन्यकर्मियों के बीच फ्लैग बैठक के जरिये सूचनाओं के आदान प्रदान की प्रणाली है। सूत्रों के अनुसार, इस संबंध में सीमा पर शांति एवं स्थिरता संबंधी समझौता (1993), सैन्य क्षेत्र में विश्चवास बहाली के उपाय (1996) और साल 2005 के विश्वास बहाली के उपाय लागू करने की रुपरेखा संबंधी प्रोटोकाल के तहत कदम उठाये जाते रहे हैं।

Loading…

सूत्रों के अनुसार, आरटीआई के जवाब में रक्षा मंत्रालय के समन्वित मुख्यालय (एचक्यू) ने बताया कि पिछले करीब दो वर्षो के दौरान जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा के पास सेना की परिचालनात्मक कमान के तहत पाकिस्तान के तरफ से संघर्ष विराम के उल्लंघन के 583 मामले सामने आए हैं। जिसमें भारतीय सेना के 15 जवान शहीद हुए हैं। सूचना के अधिकार के तहत रक्षा मंत्रालय के समन्वित मुख्यालय (एचक्यू) के सैन्य परिचालन महानिदेशालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार, जम्मू कश्मीर में नियंत्रण रेखा के पास सेना की परिचालनात्मक कमान के तहत 3 जुलाई 2015 से 3 जुलाई 2017 के बीच पाकिस्तान के तरफ से संघर्ष विराम के उल्लंघन के 583 मामले सामने आए हैं। 2015 में संघर्ष विराम में ऐसे 135 मामले सामने आए जिनमें 4 जवान शहीद हुए. 2016 में पाकिस्तान के तरफ से संघर्ष विराम के उल्लंघन के 228 मामले सामने आए जिनमें 8 जवान शहीद हुए और 3 जुलाई 2017 तक पाकिस्तान के तरफ से ऐसे 220 मामले सामने आए जिनमें 3 जवान शहीद हुए।

सूत्रों के अनुसार, लोकसभा में कुछ समय पहले पेश दस्तावेजों में मंत्रालय ने कहा था कि साल 1996 में चीन के तत्कालीन राष्ट्रपति च्यांग चेमिन जब की भारत यात्रा पे आये थे तब दोनों देशों ने एलएसी पर सैन्य क्षेत्र में विश्वास बहाली के कदम के बारे में समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। जून 2003 में तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की चीन यात्रा के दौरान दोनों देशो में से प्रत्येक ने इस बारे में विशेष प्रतिनिधि नियुक्त करने पर सहमति जताई थी ताकि दोनों देशो के सीमा मुद्दे के समाधान का ढांचा तैयार करने की संभावना तलाशी जा सके। इस विषय पर अब तक दोनों देशो के पक्षों की कई बैठकें हो चुकी है लेकिन सीमा विवाद पर कोई भी प्रगति होती नहीं दिख रही है।

समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान ने दिया सेना पर दिए विवादित बयान!!!!

यूपी के पूर्व मंत्री आजम खान ने सेना और भारतीय सुरक्षाबलों पर दिया विवादित बयान!!!!

Video Source: DB News

सूत्रों के अनुसार, समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान की मुश्किलें और बढ़ सकती है क्योकि उनके द्वारा सेना पर दिए गए उनके विवादित बयान को लेकर उनके खिलाफ पुलिस में तीन अलग अलग जगह पर शिकायत दर्ज कराई गई है। यूपी के पूर्व मंत्री आजम खान के खिलाफ ये शिकायत लखनऊ के हजरतगंज, रामपुर के सिविल लाइन्स और बिजनौर के चांदपुर थाने में दर्ज करायी गई है।

Loading…

पिछले दिनों आजम खान ने भारतीय सेना और सुरक्षाबलों पर विवादित बयान दिया था और एक वीडियो में वह यह कहते हुए भी नजर आए थे की ‘आतंकवादी फौज के प्राइवेट पार्ट्स काटकर साथ ले गए, आजम खान को सेना और सुरक्षाबलों के हाथ से शिकायत नहीं थी, सिर से नहीं थी, पैर से नहीं थी और जिस्म के जिस हिस्से से भी उन्हें कोई शिकायत थी। आजम खान के अनुसार फौज के प्राइवेट पार्ट्स काटकर साथ ले गए, ये इतना बड़ा संदेश है, जिस पर पूरे हिंदुस्तान को शर्मिंदा होना चाहिए और सोचना चाहिए कि हम दुनिया को क्या मुंह दिखाएंगे? आजम खान जैसे नेताओ को सिर्फ धर्म के नाम पे अपनी रोटी सेकनी आती है, ऐसे लोग कभी शहीद के घर नहीं जाते और नहीं उनकी सहादत को याद करते है, ऐसे लोग सिर्फ अपने बारे मे सोचते है।

और पढें- जम्मू & कश्मीर मे भारतीय सेना ने शुरू किया ऑपरेशन आल आउट!!!! 


वहीं आजम खान अपने इस बयान पर अपनी सफाई में मीडिया पर बयान को गलत तरीके से पेश करने के आरोप लगाए और साथ ही उन्होंने कहा, ‘मैं फासीवादी ताकतों के लिए आइटम गर्ल बन गया हूं। आजम खान ने कहा की वो नरेंद्र मोदी और बीजेपी के लिए नफरत का एजेंडा बन गया हूं, आजम खान ने कहा की उनके खिलाफ नफरत फैलाकर बीजेपी को वोट मिलते हैं, फिर कहा की मुझसे प्यार कीजिए, नफरत मत कीजिए। अब आप सब को तय करना है की आप ऐसे नेताओ के साथ है या हमारे उन देश के सेनिको के साथ जो देश के लिए अपनी जान दे देते है। जय हिन्द!!!!

जानें क्या वो वजह है? जब गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने प्रोटोकॉल तोड़ बीएसएफ जवान को लगाया गले!!!!

प्रोटोकॉल तोड़ कर BSF के जवान को लगाया गले गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने….

गृहमंत्री राजनाथ ने BSF जवान को लगाया गले onlynarendramodiji
जून १, २०१७ को जब केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने प्रोटोकॉल तोड़ते हुए उस जवान को गले लगा लिया जिसने कश्मीर में आतंकियों की हालत ख़राब कर दी थी। यह वही बीएसएफ जवान गोधराज मीणा है जिसने कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ अभियान के दौरान प्रचंड साहस का परिचय देते हुए 80 फीसदी से अधिक घायल हो गया था।

Loading…

गुरुवार जून १, को सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के एक कार्यक्रम में राजनाथ ने बीएसएफ जवान गोधराज मीणा को वीरता मेडल से सम्मानित किया। गोधराज मीणा 2014 में आतंकवादी हमले के दौरान कई गोलियां लगने से बहुत बुरी तरह से घायल हो गए थे। सूत्रों के अनुसार, मेडल मिलने के बाद जब मीणा द्वारा सलामी देने के कोशिश से प्रभावित हो कर राजनाथ सिंह ने सारे प्रोटोकॉल तोड़ उन्हें गले से लगा लिया और उनकी आँखे भी नम हो गयी । जैसा हम जानते है कि प्रोटोकॉल के तहत मेडल मिलने के बाद सैनिक को सम्मानित करने वाले व्यक्ति से हाथ मिलाकर उसको सलामी देनी होती है।

मीणा की वजह से बस में सवार 30 जवानों की बची जान….
मीणा ने बचायी बस में सवार बीएसएफ के 30 जवानों की जान, हालांकि इस दौरान उनके जबड़े सहित शरीर के अन्य हिस्सों में लगी गोली के कारण मीणा बहुत घायल हो गए थे जिसकी वजह से अब वो बोलने में भी असमर्थ हैं। हालाँकि मीणा को अभी प्रशासनिक ड्यूटी पर लगाया गया है।

Loading…

जब मीणा के सीने पर राजनाथ सिंह द्वारा वीरता मेडल लगाए जाने से पहले जब उनके साहस की यह कहानी को सुनाया गया तब विज्ञान भवन क़े अन्दर बैठा हर व्यक्ति ने उनका तालियों से स्वागत किया। सूत्रों क़े अनुसार, कार्यक्रम में मौजूद एक वरिष्ठ अधिकारी ने इसे एक अद्भुत क्षण बताते हुये कहा कि मीणा बोलने और चलने-फिरने में अक्षम होने के बावजूद उन्होंने वीरता सम्मान पाने के लिए पूरी वर्दी पहनी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सपना उड़े देश का आम नागरिक…

उड़े देश का आम नागरिक (उड़न)!!!!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने छोटे-शहरों के लिए सस्ते उड़ान भरने के लिए लोगों की मदद करने के लिए उड़े देश का आम नागरिक (उड़न) महत्वाकांक्षी एक योजना शिमला मे शुरू की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण मे कहा की 500 किमी की दुरी या एक-घंटे की यात्रा के लिए विमान किराया लगभग रु. 2,५०० तक होगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा की मे उन लोग को विमान की यात्रा करते देखना चाहता हूँ, जो हवाई चप्पल (रबर चप्पल) पहन कर एक हवाई जहाज़ (विमान), में सफर करें।

Loading…

शिमला में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने सार्वजनिक भाषण मे कहा :-

१. हवाई यात्रा अब है न सिर्फ अमीरों के लिए। मैं भारत के सभी लोगो को हवाई जहाज़ की यात्रा करते देखना चाहता हूँ।
२. सबसे बड़ी कमी थी कि भारत मे अभी तक कोई विमानन नीति के लिए कानून नहीं था।
३. नरेंद्र मोदी ने कहा कि ये हमारी सरकार के लिए बहुत खुशी की भारत मे पहली विमानन नीति बनाने का सौभाग्य मिला।

४. नरेंद्र मोदी ने कहा कि शिमला से दिल्ली का टैक्सी का कराये की लागत रु. 8-१० होता है।
५. शिमला से दिल्ली की यात्रा हवाई जहाज़ से सिर्फ १ घंटे मे और रोड से ९ घंटे मे होता है।
६. हवाई जहाज़ से यात्रा करने से समय की बचत और हवाई जहाज़ कराये की लागत रु. 8-१० होंगी।
७. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा की वो नि: शुल्क टिप विमानन कंपनियों देना चाहता हूँ।
८. आजादी के बाद 70 साल के बाद भी बस 70 से 75 हवाई अड्डों, जो व्यावसायिक तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है।

Source: Image1, Image2, Image3, Image4, Image5

गुजरात बीजेपी ने पास किया नया कानून, गाय-वध के लिए उम्र कैद…

गाय-वध के लिए उम्र कैद!!!!

भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने हाल ही में गुजरात में एक ऐतिहासिक और बहुत ही कठोर कानून को मंजूरी दे दी, अगर कोई भी व्यक्ति गाय के कत्लेआम में शामिल पाए गया तो उसे उम्र कैद की सजा मिलेंगे ऐसा अधिनियम गुजरात संसद मे पारित किया गया है।

Loading…

गुजरात राज्य विधानसभा ने 1954 के पशु परिरक्षण अधिनियम को संशोधन कर के अधिकतम सजा उम्र कैद और पांच लाख रुपये तक के जुर्माने के रूप मे नया पशु परिरक्षण अधिनियम पारित कर दिया है। ये फैसला अब तक के सभी राज्यो की तुलना मे सबसे क्रन्तिकारी फैसला लिया गया है।

नए कानून के अनुसार, किसी भी व्यक्ति को भी अगर गाय कत्लेआम मे अगर दोसी पाया गया उसे करीब ७ से 10 वर्ष अवधि तक की जेल की सजा का सामना करना पड़ेगा। संशोधन के अनुसार, गुजरात राज्य मे अब गाय वध करना अब गैर-जमानती अपराध बन गया है।

नरेंद्र मोदी जब गुजरात राज्य के मुख्यमंत्री थे, उस समय गुजरात सरकार ने तत्कालीन गुजरात पशु परिरक्षण अधिनियम 1954, 2011 में संशोधन करके गाय-वध, गाय-बीफ की बिक्री पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया था। तब से, गुजरात में गाय-वध से संबंधित अपराधों के तहत गुजरात पशु परिरक्षण (संशोधन) अधिनियम 2011 मे कवर किया जा रह हैं।

Source: Image1, Image2 

क्या योगी आदित्यनाथ नरेंद्र मोदी के राजनीतिक उत्तराधिकारी हो सकते है?

योगी आदित्यनाथ नरेंद्र मोदी के राजनीतिक उत्तराधिकारी हो सकते है!!!!

योगी आदित्यनाथ को  मुख्यमंत्री के रूप में चयन करने का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का फैसला भाजपा के लिए एक ऐतिहासिक फैसला है और उत्तर प्रदेश का जनादेश राजनीतिक विशेषज्ञों के लिए एक आश्चर्य के रूप में सामने आया है। योगी आदित्यनाथ एक बार नहीं बल्कि पिछले पांच बार से गोरखपुर से सांसद है  और उत्तर प्रदेश और बिहार के कुछ हिस्सों में ख़ासा प्रभाव रखते है। एक अर्थ में ऐसा कहा जा सकता है की योगी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राजनीतिक उत्तराधिकारी हो सकते है क्योंकि मोदी और योगी के काम करने के तरीके में कई समानताएं आरेखित की जा सकती है।

Loading…

मोदी और योगी अपनी किशोरावस्था में अपने पैतृक घर छोड़ कर देश की सेवा में अपने आप को समर्पित कर दिया था। मोदी हिंदुत्व के पोस्टर बॉय के रूप में एक सामने आये थे परंतु राष्ट्रव्यापी विकास के एजेंडा उन्हें देश के प्रधान मंत्री के पद तक ले गया| योगी की लोकप्रियता का तथ्य यह भी है कि उन्होंने 2017 विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान शाह को छोड़कर किसी भी अन्य नेता से अधिक जन सभा में भाग लिया।

Loading…

योगी ने घोषणा की है की किसानों की आय बढ़ाना यह उनकी पहली प्राथमिकता है। 2011 की जनगणना के अनुसार राज्य के कुल कार्यबल में आधे से अधिक किसान है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *