मोदी जी चाँद क़ादरी की कव्वाली सुनकर हुए भाबुक!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी चाँद क़ादरी की कव्वाली सुनकर भाबुक हुए! 

Video Source: FWF India News

 आप को बता दे की मेरी जान जाए वतन के लिए उस्ताद चांद कादरी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने सुनाई जिसको सुनते ही  मोदी जी चाँद क़ादरी की कव्वाली सुनकर हुए भाबुक हो गए।


और जानने के लिए : BREAKING NEWS

ये कार्यकर्म राज्य सभा के सांसदों के कार्यकाल ख़तम होने के कारण आयोजित किया गया था जिसमे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बाकी सभी राजनैतिक पार्टिया और राजनेता भी शामिल थे।

कर्नाटक के सीएम कुमारस्वामी रोते हुए बोले, ‘मुख्यमंत्री बनने से खुश नहीं!!!!

Breaking News: सामने आया कांग्रेस और जेडीएस के गठबंधन का सच्च!!!!

Video Source: Zee News

मीडिया के अनुसार, कांग्रेस पार्टी और जेडीएस के बीच कर्नाटक राज्य में चल रही गठबंधन सरकार के बीच खटास तब उभरकर सामने आ गया जब कर्नाटक के मुख्यमंत्री सीएम कुमारस्वामी एक कार्यक्रम में सब के सामने फुट फुट के रोने लगे। कुमारस्वामी ने कहा की वो कर्नाटक राज्य की वर्तमान की परिस्थितियों से बहुत दुखी हैं। कुमारस्वामी ने कहा की वो गठबंधन का जहर पी रहे हैं और चुनाव के बाद जेडीएस के कार्यकर्ता काफी खुश थे सब को लग रहा था कि उनके भाई को सीएम बनाया गया है लेकिन सच कुछ और ही हैं वो लोग आज के हालात से खुश नहीं हैं।

और जानने के लिए : BREAKING NEWS

आप को बता दे की कुमारस्वामी के कर्नाटक सीएम बनने के बाद जेडीएस द्वारा एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था। इस दौरान कुमारस्वामी ने कार्यक्रम में अपने कार्यकर्ताओं से कहा, जब मैं कर्नाटक सीएम बना था तो आप लोग बहुत खुश थे. लेकिन मैं आप सब लोगो से कहना चाहता हूं कि मैं दुखी हूं, मैं जहर पी कर के जिन्दा हूं, कांग्रेस पार्टी से गठबंधन कर के सीएम बनना जहर पीने से कम नहीं है. मैं इन हालात से बहुत दुखी हूं।

Loading…

मीडिया से बात करते हुए कुमारस्वामी ने कहा की किसानों के ऋण माफी के लिए उन्होंने अधिकारियों को कितनी मुश्किलों से तैयार किया। कुमारस्वामी ने कहा अन्ना भाग्य स्कीम में 5 किलो चावल की बजाय 7 किलो देना चाहते हैं। कुमारस्वामी ने कहा की मैं इसके लिए 2500 करोड़ कहां से लेकर आऊं, और उन्होंने कहा टैक्स लगाने के लिए मेरी बहुत आलोचना हो रही है। कुमारस्वामी ने कहा दूसरी तरफ मीडिया कह रही है कि मेरी लोन माफी स्कीम में स्पष्टता नहीं है और अगर मैं चाहूं तो 2 घंटों के अन्दर कर्नाटक के सीएम का पद छोड़ दूं। कुमारस्वामी ने कहा कर्नाटक चुनाव के समय रैलियों में हमें सुनने के लिए कर्नाटक की जनता बहुत बड़ी संख्या में आते थे, लेकिन जब वोट देने की बारी आई तो कर्नाटक के लोग हमें और हमारी पार्टी को भूल गए।

कांग्रेस पार्टी का घमंड हुआ चूर! कर्नाटक की जनता ने कांग्रेस पार्टी के मुँह पे मारा जोरदार तमाचा!!!!

Breaking News: कर्नाटक की जनता ने दिखाया कांग्रेस पार्टी को उसकी औकात!!!!

Video Source: Zee News

जैसा की हम सब को पता है की कर्नाटक की जनता ने कैसे कांग्रेस पार्टी को कर्नाटका से उखाड़ फेका है। वही कर्नाटक की जनता ने बीजेपी को 104 जीता के ये साबित कर दिया की हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी देश के लिए अच्छा काम कर रहे है। वही कर्नाटक के अंदर कांग्रेस पार्टी हरने के बाद इस भुला नहीं पा रही है और उसने जेडीएस को समर्थन देने का निर्णय किया है। आप को बता दे की ये वही कांग्रेस पार्टी है जो पहले JDS को सत्ता से बहार रखने के लिए काम करती थी और आज बीजेपी को रोकने के लिए JDS को समर्थन दे रही है। लेकिन शायद कांग्रेस पार्टी ये भूल गयी है की कर्नाटक की जनता बहुत समझदार है उसको सब दिख और समझ रहा है की कांग्रेस पार्टी कौन सा गन्दा खेल रही है।

और जानने के लिए : BREAKING NEWS

आप को बता दे की आज 17 मई को बीजेपी के नेता ने कर्नाटक के चीफ मिनिस्टर की सपथ ले ली है और कल उनको अपना बहुमत साबित करना है। जैसा की सूत्रों के अनुसार, ऐसे खबर मिल रही है की कीच नेता बीजेपी को सपोर्ट देने को राज़ी हो गए है और ऐसे उम्मीद लगायी जा रही है की कल बीजेपी अपना बहुमत साबित कर देगी। वही राहुल गाँधी ने हिन्दुस्तान की तुलना पाकिस्तान से कर के देश का नाम बदनाम करने का काम किया है, शायद राहुल गाँधी इस हार को भुला नहीं पा रहे है और कुछ भी बयां बाज़ी करते जा रहे है।

Loading…

शायद गाँधी परिवार ये भूल गया है की उनके परिवार ने देश के साथ क्या क्या किया है और देश की जनता को कितना परेशां किया है। राहुल गाँधी को लगता है सिर्फ बयां बाज़ी करने से वो देश के प्रधानमंत्री बन जायेंगे तो उनको ये ख्याल उनके दिमांग से निकल देना चाइये, क्युकी देश की जनता को अब ये पता चल गया है की कांग्रेस पार्टी का चरित्र क्या है। कांग्रेस पार्टी सिर्फ अपना फायदा देखती है और देश के लोगो को आपस मे लड़ा के मज़े लेती है। 2019 मे होने वाले लोक सभा चुनाव मे देश की जनता कांग्रेस पार्टी को अच्छा जवाब देगी और शायद इस बार 44 सीटों से 4 सीटों पे ला देगी ।

यूपी शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने चांद-सितारे वाले हरे झंडे पे रोक लगाने की सिफारिश की!!!!

वसीम रिजवी ने चांद-सितारे वाले (पाकिस्तानी) हरे झंडे पे रोक लगाने की सिफारिश की!!!!

onlynarendramodiji
मीडिया के अनुसार, यूपी शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने चांद-सितारे वाले (पाकिस्तानी) इस्लामिक झंडे पर रोक लगाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की है। वसीम रिजवी ने कहा है कि इस झंडे से हमारे इस्लाम का कोई संबंध नहीं है और इसलिए इस झंडे के फहराने पर रोक लगा देना चाइये। वसीम रिजवी का कहना है कि यह हरा झंडा पाकिस्तानी झंडे और मुस्लिम लीग से मिलता-जुलता है और हमारे मुस्लिम इलाकों में इसको फहराया जाना सांप्रदायिक तनाव पैदा करता है। जो लोग इस हरे झंडे को फहराते हैं वे पाकिस्तान के साथ खुद का जुड़ाव महसूस करते हैं।
और जानने के लिए : BREAKING NEWS

वसीम रिजवी ने अपनी याचिका में कहा कि चांद-सितारे वाला हरा झंडा मुस्लिम लीग का है और आप को बता दें मुस्लिम लीग 1946 में ही खत्म हो गई है। अपनी याचिका में वसीम रिजवी ने तर्क दिया कि इस हरे झंडे का इस्लाम से कोई लेना-देना नहीं है ऐसे में जब कोई मुस्लिम इस हरे झंडे को फहराता है तो सांप्रदायिक माहौल बिगड़ता है। वसीम रिजवी ने कहा की मोहम्मद पैगंबर के समय सफेद या काले रंग के झंडे का इस्तेमाल किया जाता था और हरे रंग के इस झंडे का इस्तेमाल तो 1906 में मुस्लीम लीग ने शुरू की थी। वसीम रिजवी के मुताबिक चांद-सितारे वाला हरा झंडा एक पॉलिटिकल झंडा था जो गुलाम भारत के समय में इसे इस्तेमाल किया जाता था। जैसा की सब को पता है की 1947 के बाद पाकिस्तान ने इसी हरे झंडे में सफेद पट्टी लगा कर अपना राष्ट्रीय झंडा बना लिया।

Loading…

जैसा की आप को बता दे पिछले दिनों वसीम रिजवी को मारने की साजिश रच रहे तीन लोगों को दिल्ली स्पेशल पुलिस की टीम ने बुंदेलखंड से गिरफ्तार किया था। सूत्रों के अनुसार, तीनों आरोपी दाऊद इब्राहिम के संपर्क में बताए जा रहे हैं और जान को खतरा के बाद वसीम रिजवी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखकर सुरक्षा की मांग की थी। वसीम रिजवी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखी चिट्ठी में कहा कि मैं देश के दुश्मन और चरमपंथियों के निशाने पर हूं. क्युकी मैं राम मंदिर बनाए जाने के समर्थन में हूं और इसलिए मुझे मारने की साजिश रची जा रही है।

आतंकवाद से लड़ने के खिलाफ ईरान आया भारत के साथ!!!!

ईरान-भारत आये एक साथ पाकिस्तान-चीन (आतंकवाद) से लड़ने के खिलाफ!!!!

Video Source : Zee News

मीडिया के अनुसार, भारत और ईरान ने 17 फरवरी को साझा बयां देते हुए कहा कि आतंकवाद जैसे खतरे का मुकाबला करने के लिए ईरान हमेशा भारत के साथ खड़ा रहेगा और हर मुमकिन मदद करता रहेगा। रूहानी ने कहा आतंकवाद को समर्थन तथा बढ़ावा देने वाले देशों की सारे देशो को कड़ी निंदा करनी चाहिए। सूत्रों के अनुसार, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और ईरानी राष्ट्रपति हसन रूहानी के बीच महत्वपूर्ण बातचीत के दौरान आतंकवाद और उनको समर्थन करने वाले देशो की चुनौती से निपटने का मुद्दा प्रमुख था। रूहानी ने कहा कि भारत और ईरान का आतंकवाद तथा चरमपंथ से निपटने के तरीके के बारे में ‘‘समान रुख’’ है और ईरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ है।

Loading…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और ईरानी राष्ट्रपति रूहानी ने आतंकवाद और आतंकी समूहों को सभी तरह का समर्थन और पनाह दिया जाना तत्काल बंद करने का अनुरोध किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और ईरानी राष्ट्रपति रूहानी ने यह भी कहा कि आतंकवाद को किसी भी धर्म, राष्ट्रीयता और जातीय समूह से नहीं देखा जाना चाहिए।

और जानने के लिए पढ़े : BREAKING NEWS


सूत्रों के अनुसार, ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने कहा कि उनका देश ईरान ‘आखिरी सांस’ तक उस परमाणु समझौते की शर्तों का पालन करेगा जो कि उसने दुनिया के प्रमुख ताकतवर देशों के साथ किया है। ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने इसके साथ ही यह भी कहा की अगर यह समझौता टूटा तो अमेरिका को इसकी भरी कीमत चुकानी पड़ेगी। ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हुए ये भी कहा की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दुनिया के सबसे अच्छे राजनेता है जो सब को साथ लेके चलते है और इनकी निति सब से अच्छी है जिसका समर्थन ईरान करता है। 

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कश्मीरी युवावों से कहा की हमे कश्मीर को वापस स्वर्ग बनाना है!!!!

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कश्मीरी युवावों से कहा की हम लोगो को एक साथ मिल कर कश्मीर को वापस स्वर्ग बनाना है!!!!

हमे कश्मीर को वापस स्वर्ग बनाना है!!!! onlynarendramodiji
सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने मंगलवार को एक कार्यक्रम में कहा की जम्मू कश्मीर में अशांति के कारण पीढ़ियां बरबाद हो रही है ओर उन्होंने ने जम्मू कश्मीर के छात्रों से कहा कि वे हिंसा को समाप्त करने के लिए लैपटॉप और किताबों को चुनें। सूत्रों के अनुसार, सेना द्वारा समथर्ति एक कार्यक्रम में भाग लेने और आईआईटी प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले छात्रों को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि सफलता कोई सामान्य उपलब्धि नहीं है तथा वे अब आप लोग कश्मीर घाटी में बाकि युवाओं के लिए उदाहरण बन गये है।

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने जम्मू कश्मीर में अपनी नौकरी के अनुभवों का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि राज्य में 1981-82 में उनकी पहली पोस्टिंग के समय जम्मू कश्मीर में स्थिति काफी बेहतर थी। जनरल बिपिन रावत ने कहा कि उनकी दूसरी पोस्टिंग के समय 1991 एवं 1993 के दौरान कश्मीर घाटी मे स्थितियों में गिरावट आयी थी। सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने वह सब से सवाल किया, ”मैंने स्थिति देखी है कश्मीर घाटी की. कितनी और पता नहीं कितनी पीढ़ियों को तोपों की गोलाबारी और विस्फोटकों का धुआं देखना होगा।’ रावत ने कहा कि इसकी वजह से कश्मीर घाटी की पीढ़ियां बरबाद हो रही है, कश्मीर के लोगों एवं युवाओं के मन में यह भय घर कर गया है की कब कोई आतंकवादी या सुरक्षा बल आएंगे।

Loading…

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा, ”लिहाजा एक तरफ आतंकवादी है और दूसरी तरफ सुरक्षा बल हैं, आप इस माहौल में कब तक रहेंगे, इसे हम लोगो को खत्म करना होगा, हमारी नियत है कि कश्मीर मे शांति कायम हो और हम किसी समस्या के बिना अपना काम कर सकें। रावत ने कहा, ”कश्मीर स्वर्ग है और हम लोगो को उस स्तर को वापस लाना है जो यह पहले था, लोग कश्मीर को देखने के लिए उमड़ पड़ते थे किन्तु तनाव के कारण लोग अब नहीं आ पा रहे हैं। रावत ने छात्रों से कहा कि वे अपना अध्ययन पूरा करने के बाद अपनी घरो की ओर वापस लौटे और कश्मीर के विकास में मदद करें ताकि लोगों की समस्याओं को दूर करने में मदद मिल सके।

रावत ने कहा, ‘कश्मीर के युवाओं को या तो किताब लेनी चाहिए या लैपटाप जिसके कारण वो अपना अध्ययन पूरा पूरा कर सके। सेना प्रमुख रावत ने मंगलवार को सेना की सुपर-40 कोचिंग के विद्यार्थियों से मुलाकात की और उन्हें ढेर सारी बधाई दी। इस कोचिंग के तहत कश्मीर के स्थानीय युवाओं को इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा में शामिल होने के लिए आवश्यक प्रशिक्षण दिया जाता है। सूत्रों के अनुसार, सेना की ”सुपर-40” कोचिंग को आईआईटी-जेईई मेन्स एग्जाम 2017 में शानदार कामयाबी मिली है।
हमे कश्मीर को वापस स्वर्ग बनाना है!!!! onlynarendramodiji
सूत्रों के अनुसार, जम्मू कश्मीर के 26 लड़कों और दो लड़कियों ने यह परीक्षा पास कर ली और इसके साथ ही इस ”सुपर-40” कोचिंग ने अपने पिछले सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। करीब नौ विद्यार्थियों ने सफलतापूर्वक आईआईटी एडवांस परीक्षा उत्तीर्ण कर ली है, जिसके नतीजे 11 जून, 2017 को घोषित किए गए थे।

इस ”सुपर-40” कोचिंग के तहत श्रीनगर में युवाओं को कोचिंग सुविधा दी जाती है। यह कोचिंग सुविधा सेना के द्वारा इसके प्रशिक्षण भागीदार सामाजिक दायित्व एवं शिक्षण केंद्र आरसीएसआरएली और पेटोनेट एलएनजी द्वारा मुहैया कराई जाती है। सूत्रों के अनुसार, यह ऐसा प्रथम बैच था जिसमें कश्मीर घाटी की पांच लड़कियों को भी कोचिंग सुविधा मुहैया कराई गई जिनमें से दो लड़कियों ने जेईई मुख्य परीक्षा र्मेन्स एग्जामी सफलतापूर्वक पास कर ली।

ट्रिपल तलाक!!! मुसलमानो के आस्था का विषय या मौलानाओ की जागीर????

मुसलमानो के आस्था का विषय या मौलानाओ की जागीर????

सूत्रों के अनुसार, सुप्रीम कोर्ट इस बात पर सुनवाई कर रहा है कि ट्रिपल तलाक इस्लाम का अभिन्न हिस्सा है या नहीं? क्योंकि ज्यादातर मौलाना और मुस्लिम धर्मगुरू ट्रिपल तलाक़ को इस्लाम का अभिन्न हिस्सा बताते हैं. जबकि ट्रिपल तलाक़ का विरोध करने वालों का कहना है कि ये इस्लाम का अभिन्न हिस्सा नहीं है. इसलिए सुप्रीम कोर्ट इस सवाल पर सुनवाई कर रहा है.

Loading…

कोर्ट ने ये भी कहा है कि अगर ट्रिपल तलाक़ धर्म का अभिन्न अंग साबित होता है, तो फिर अदालत इसमें दखल नहीं देगी इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट इस बात पर भी सुनवाई कर रहा है कि क्या मुस्लिम औरतो के मौलिक अधिकारों की कसौटी पर ट्रिपल तलाक़ को लागू किया जा सकता है या नहीं?

सुप्रीम कोर्ट फिलहाल ट्रिपल तलाक़ पर ही सुनवाई करेगा. लेकिन अदालत ने ये भी कहा है कि अगर ज़रूरत पड़ी तो निकाह- हलाला पर भी सुनवाई होगी. हालांकि मुस्लिम धर्म में मौजूद एक से ज़्यादा-निकाह की प्रथा पर सुप्रीम कोर्ट में कोई सुनवाई नहीं होगी, अब सुप्रीम कोर्ट इस मामले पर लगातार सुनवाई करेगा और फिर अपना अंतिम फैसला सुनाएगा.

Loading…

कपिल सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट में दलील देते हुए ये कहा कि ट्रिपल तलाक़ कोई मुद्दा है ही नहीं. ये मुसलमानों के पर्सनल लॉ का मामला है और इसमें अदालत को दखल नहीं देना चाहिए और कपिल सिब्बल और कांग्रेस के भी यही विचार हैं क्योंकि इन विचारों की मदद से कांग्रेस देश के मुसलमानों को खुश करना चाहती है

कांग्रेस ने कभी भी ट्रिपल तलाक़ पर अपना पक्ष ज़ाहिर नहीं किया है. ट्रिपल तलाक़ पर देशभर में पिछले एक वर्ष से बड़े स्तर पर बहस चल रही है. लेकिन कांग्रेस ने कभी भी खुलकर ट्रिपल तलाक़ का विरोध नहीं किया क्यों की अगर वो ऐसा करती है तो मुसलमानो के वोट उसके चले जायेंगे ऐसा कांग्रेस पार्टी को लगता है.

शायद कुछ लोगो को याद होगा आज से 31 वर्ष पहले 1986 में शाह बानो केस के दौरान कांग्रेस पार्टी ने धर्मनिरपेक्षता का नाम लेकर मुस्लिम वोटों का जो तुष्टिकरण किया था, जो वो आज तक करती आयी है. आपको लोगो को याद दिला दें कि शाह बानो एक 62 वर्ष की मुसलमान महिला थीं जिनके पांच बच्चे थे शाह बानो को 1978 में उनके पति ने तलाक दे दिया था. शाह बानो ने पति से घर के गुज़ारा भत्ता लेने के लिये अदालत में अपील की. इसके बाद जब तक ये मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा, तब तक 7 साल बीत चुके थे. 1985 में इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने ऐतिहासिक फैसला सुनाया और शाह बानो के पति को घर के लिए गुज़ारा भत्ता देने का आदेश दिया.

भारत के कुछ रूढ़िवादी मुसलमानों ने इस फैसले का जमकर विरोध किया. उस दौर में ऑल इंडिया पर्सनल लॉ बोर्ड नाम की एक संस्था बनाई गई थी. उस दौर में पर्सनल लॉ के समर्थकों ने सभी प्रमुख शहरों में आंदोलन करने की धमकी भी दी थी. इसके बाद 1986 में राजीव गांधी की सरकार ने एक कानून पास किया जिसने शाह बानो मामले में उच्चतम न्यायालय के निर्णय को पूरा उलट दिया. अपने इस फैसले को राजीव गांधी की सरकार ने “धर्म-निरपेक्षता” के उदाहरण के रूप में प्रस्तुत किया था और मुसलमानो को खुश करने के लिए एक औरत की जिंदगी ख़राब कर दी.

Source: Image1, Image2, Image3, Image4

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *