प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इमरजेंसी को पुरे देश मे काला दिवस के रूप बताया!!!!

                 जानिए क्या है? इमरजेंसी का पूरा सच!!!!

Video Source: Zee News

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीजेपी के एक कार्यक्रम में बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच इमरजेंसी/आपातकाल को लेकर बहुत सारी बात की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हर साल 26 जून को आपातकाल को पुरे देश मे एक काले दिन के रूप मे याद किया जाता है जब पुरे देश मे खुलेआम लोकतंत्र की हत्या की गई थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि बीजेपी कार्यकर्ता इमरजेंसी/आपातकाल के दिन को काला दिवस के रूप पुरे देश में कांग्रेस और उसकी सरकार का विरोध करने के लिए नहीं बल्कि देश के लोगों को उन दिनों मे क्या क्या हुआ था उन सारी बातो को याद दिलाने के लिए मनाते हैं।

और जानने के लिए : BREAKING NEWS

मीडिया के अनुसार, बीजेपी पुरे देश मे 1975 में इंदिरा गांधी की ओर से घोषित किए गए इमरजेंसी/आपातकाल के विरोध में 26 जून बीजेपी काला दिवस मना रही है। आप को बता दे की बीजेपी पार्टी के नेता देश के तमाम शहरों में मौजूद हैं और 25 केंद्रीय मंत्री करीब 25 शहरों में काला दिवस के मौके पर प्रेस कॉन्फ्रेंस करने वाले हैं।

Loading…

वही बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने अहमदाबाद मे बीजेपी कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करते हुए इमरजेंसी/आपातकाल को ले के कांग्रेस पार्टी को जमकर धोया। अमित शाह ने कहा कि इमरजेंसी/आपातकाल भारत देश के लोकतंत्र के इतिहास में एक काला अध्याय है जो कांग्रेस पार्टी कभी भी नहीं मिटा पायेगी। अमित शाह ने कहा की बीजेपी ने इस दिन को काले दिन के रूप मे मनाने का निर्णय इसलिए लिया है ताकि उस इमरजेंसी/आपातकाल के दिन को देश की जनता कभी ना भूले देश की जनता को बार-बार उसका स्मरण करके एक ऐसी स्थिति का निर्माण करे की कभी भी कोई राजनैतिक पार्टिया आपातकाल लगाने की हिम्मत इस देश में कर ना पाए।

केंद्रीय जल संसाधन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा पाकिस्तान में बहने वाली नदियों के पानी का इस्तेमाल करेगी!!!!

Breaking News : बीजेपी के गदवार नेता का आया एक बड़ा बयां!!!!

Video Source: News Express

सूत्रों के अनुसार, मोदी सरकार ने पाकिस्तान की तरफ बहने वाली सभी नदियों के पानी का इस्तेमाल कर पंजाब, हरियाणा और राजस्थान राज्यों के पानी की समस्या का समाधान करने के लिए बड़ा फैसला लेने का निर्णय किया है। केंद्रीय जल संसाधन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि हमारी सरकार ने एक नयी योजना शुरू की है जहां देश की नदिओं का पानी नहर के बजाए अब पाइप प्रणाली का इस्तेमाल कर देश के किसानों तक पहुंचेगा जिससे देश के किसानो को बहुत फायदा होगा। 
और जानने के लिए : BREAKING NEWS

रिपोर्ट के अनुसार, नितिन गडकरी ने गोदावरी मामले का जिक्र करते हुए कहा कि मोदी सरकार आंध्र-प्रदेश के पोलावरम में लगभग 60 हजार करोड़ रुपये की लागत से बांध बनवा रही है जिसकी वजह से इरावती नदी के बहाव को रोका जा सके। गडकरी ने कहा कि ऐसा होने से आंध्र-प्रदेश के लोगो को और वहा के किसानो को बहुत फायदा होगा।

Loading…

जैसा की हम सब को पता है की नितिन गडकरी ने जो काम 4 साल मे कर के दिखाया है वो लोग 10 साल मे नहीं कर पाते। नितिन गडकरी ने नागपुर को आने वाले समय मे देश का सबसे अच्छा मेट्रो सिटी बनाने के कगार पे है और उन्होंने नागपुर मे जो काम किया है वो कबीले तारीफ है। नितिन गडकरी बीजेपी के एक सबसे ईमानदार नेताओ मे से एक है जैसा की आप सब को पता होगा की हाल ही मे अरविन्द केजरीवाल ने उनसे मांफी मांगी है जो उन्होंने नितिन गडकरी के ऊपर झूठे आरोप लगाए थे। नितिन गडकरी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के “सब का साथ सब का विकास” के फार्मूले पे काम कर रहे है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया देश के सबसे लंबे पुल का उद्घाटन!!!!

           मोदी सरकार ने दिया भारतवासिओं को एक और तोफा!!!!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया देश के सबसे लंबे पुल का उद्घाटन! Narendra Modi

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के सबसे बड़े पुल का उद्घाटन किया, ये पुल ब्रह्मपुत्र नदी के दक्षिणी तट पर स्थित धोला को उत्तरी तट पर स्थित सादिया से जोड़ेगा। इस पुल की लंबाई 9.15 किलोमीटर है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा की ये पुल अरुणाचल प्रदेश में संचार सुविधा को बेहतर बनाने के लिए काफी मददगार साबित होगा। इस पुल के बनने से सबसे बड़ा फायदा भारतीय सेना को होगा क्योंकि उन्हें अब अरुणाचल प्रदेश स्थित भारत-चीन सीमा पर पहुंचने में तीन से चार घंटे कम लगेंगे और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि इस सीमा पर हमारे देश की किबिथू, वालॉन्ग और चागलगाम सैन्य चौकियां हैं।

Loading…

आप लोगों की जानकारी के लिए बता दें कि सरकार ने इस पुल को बनाने में कुल 10 हजार करोड़ रुपए की लागत लगायी है। सूत्रों के अनुसार, लागत बढ़ने के पीछे का कारण इसे बनाने में होने वाली देरी है, साथ ही इस पुल को अन्य सड़कों से जोड़ने के लिए 28.5 किलोमीटर लंबाई की सड़कों का निर्माण भी किया गया है। सरकार की तरफ से बताया गया है कि जल्द ही एक और बोगीबील नामक पुल शुरू होने वाला है जिसे अरुणाचल प्रदेश से एटानगर जाने में 4-5 घंटे का कम समय हो जायेगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया देश के सबसे लंबे पुल का उद्घाटन! Onlynarendramodiji

इसके अलावा पुल के चालू होने के बाद अरूणाचल प्रदेश और असम के बीच की दूरी 165 किलोमीटर और 5 घंटे कम हो जाएगी। सूत्रों कि अनुसार, ये पुल 60 टन बजनी युद्धक टैंक का वजन उठाने में सक्षम है. 2011 में इस पुल का निर्माण कार्य शुरू हुआ और उस समय इस परियोजना की लागत 950 करोड़ थी, इस पुल का का उद्घाटन 2015 में ही होना था लेकिन बाद में सरकार ने इसे 26 मई को उद्घाटन करने का फैसला लिया। मोदी ने कहा कि ये पुल भारतीय सेना के अलावा असम और अरुणाचल के लोगों के लिए भी यह पुल बेहद उपयोगी साबित होगा।

क्या प्रधानमंत्री नरेंद्री मोदी जी लाल कृष्ण आडवाणी जी को भारत के नए राष्ट्रपति के रूप मे देखना चहते है?

क्या लाल कृष्ण आडवाणी भारत के नए राष्ट्रपति होंगे?

लाल कृष्ण आडवाणी भारत में सबसे वरिष्ठ राजनीतिक नेताओं में से एक है और वो भारत के राजनीतिक नेताओं मे अत्यधिक समानित नेता है। लालकृष्ण आडवाणी जी को ‘आयरन मैन भारत का के रूप में जाना जाता है, लालकृष्ण आडवाणी जी ने अपने राजनीतिक जीवन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के एक स्वयंसेवक के रूप में शुरू कर दिया था।

Loading…

१९९८ से 2004 तक उन्होंने भाजपा की अगुआई वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार में मंत्री के घर के रूप में सेवा की और भी भारत के उपप्रधान मंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी के साथ 2002 से 2004 तहत काम किया है। हालाँकि, जब नरेंद्र मोदी जी को भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में 2014 के लोकसभा चुनाव मे चयनित किया गया था तब पार्टी के भीतर एक दरार की खबरें थी की लाल कृष्ण आडवाणी जी बीजेपी पार्टी मे एक उच्च स्थान के रूप में चहते थे।

तीन साल बाद, नरेन्द्र मोदी भारत के प्रधानमंत्री और अविवादित रूप से, देश में सबसे बड़ी राजनीतिक के रूप मे देश के सारे आंकड़े को पीछे छोड़े दिया है। दूसरी ओर, लालकृष्ण आडवाणी ने 2014 में भाजपा की विशाल जीत के बाद से मीडिया सुर्खियों से दूर हो गया थे, लेकिन, भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने अपने ‘गुरु’ लाल कृष्ण आडवाणी जी को कभी भी भूले नहीं और अब, देश के सबसे प्रतिष्ठित पद के लिए लाल कृष्ण आडवाणी जी के नाम का सुझाव दिया है। इस रिपोर्ट के अनुसार, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह एक पार्टी में भारत के अगले राष्ट्रपति के लिए लालकृष्ण आडवाणी जी के नाम का प्रस्ताव 8 मार्च को सोमनाथ मे आयोजित एक कार्यक्रम मे किया।

ये भी खबर है की ये प्रस्ताव भाजपा के कई वरिष्ठ नेताओं की उपस्थिति में लिया गया था और अगर इस रिपोर्ट्स पर विश्वास किया जाये तो, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी कि इस उपहार या ‘गुरु दक्षिणा’ लालकृष्ण आडवाणी जी के लिए संकेत देने के संकेत दे चुके है। भारत के राष्ट्रपति चुनाव जुलाई में इस वर्ष २०१७ मे आयोजित किया जाएगा और उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भाजपा की आश्चर्यजनक जीत पार्टी से लगता है की बीजेपी भारत शीर्ष स्थान पर अपने खुद के एक उमीदवार को चुनना पसंद करेंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने पिछले रविवार को अपने भाषण के दौरान अपने इरादे मे स्पष्ट केर दिया की वो २०१९ मे होने वाले लोकसभा चुनाव के लक्षित नहीं है बल्कि उन्होंने उस से आगे के बारे मे सोच कर रखा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का सपना ‘मिशन 2022’ भाजपा के लिए संभव बनाने का है, भाजपा अपने सबसे सर्वश्रेष्ठ संभावित 89 वर्षीय वयोवृद्ध नेता, लालकृष्ण आडवाणी जी जैसे उम्मीदवार को आगे और जो एक बेहतर विकल्प हो सकता है राष्ट्रपति के पद के लिए कोशिश करेंगे।

Source: Image1, Image2, Image3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *